Bhagavad Gita

Bhagavad Gita

Ek Itihaas

ISBN: 9788120842823

Author: K. P. Singh

Subject: Bhagavad Gita

Language: Hindi

Binding: Paper Back

Pages: 500

Publisher: Motilal Banarsidass

Availability: In Stock

Rating:    

INR 562.50INR 750.00

Info

About Book:

The Bhagavad Gita is considered by scholars to be a mysterious and very esoteric composition, to know the mysterious truth of which scholars from all over the world had done their work, yet its truth could not come out, what is its truth? What are its basis and its related content? It is also believed that Krishna had given instructions to Arjuna, who had turned away from the war, in Kurukshetra so that he would be ready to fight with the Kauravas, but this fact is not true but a myth. Whatever the scholars told about the Gita, what they said and what they wrote, the truth of the Gita is seen far beyond them. Therefore, there is a need to re-read the Bhagavad Gita once again, perhaps this time its entire truth is in front of us.

 

With Hindi translation and 'Full-stop' commentary, 'K. P. Singh's published book ‘Shrimad Bhagavad Gita: A History’, almost all the mysteries of the Gita seem to be solved. The published book also contains all such information, which can prove to be important for us. The Bhagavad-gita has been so enigmatic about its verses, utterances, expressions and vocabularies that it has probably been impossible to understand because of them, and it has become an unsolved puzzle for the world. The subject matter of the Gita is so diverse, due to which it could not be understood in a systematic way. Its vocabulary is also such that the true meaning of many words is probably not known, so its expressions cannot be understood. Therefore, first of all, it has to be understood about Gita that what is Gita? What are its subject and basis? When and why was it created and what does it express? All this has been intelligently discussed in the published book.

 

The book covers almost all the points that may be of interest to anyone's curiosity, such as, who is the originator of the Gita? How many versions of Gita were composed and when? Who is the author of Gita? Exactly who is Krishna and what is his period? Kurukshetra, and what is the battle of Kurukshetra? Who are Aatma, Paramatma, Parameshwara, Ishwar, Maheshwar, Bhagwan and Prabhu etc.? What are Brahma, Vibhooti, Yoga, Punarjanm, Janmamrtyujaraadu:kh, Karma, Karmaphala, Yagya, Tapa, Bhakti, Dhyaan, Saankhy, Sannyaas, Tyaag, Buddhi, Gyaan, Janm–Bandhan, Moksh, Nirvaan, Mukti, Amrt, Shaanti, Bhaavana, Naishkarm, Divyadrshti, Om, Jagat, Lok, Surendralok and Praanaayaam? Who are Sthitaprajna, Yogi, Sanyasi, Deva, Devata, Daiva, Sur and Asura? Who are Brahmins, Kshatriyas, Vaishyas, Shudras, Chandalas, Papayanis and Untouchables? Who are Yadu and Yadav? Who is Virata-Purush and what is Viratswaroop? What were the Varna-hybrid defect and its fear for women? Who are Dhartarashtra, Dhritarashtra, Pandava, Atatayi and Bhishma Drona etc.? What is Dharma and Adharma? Who are Svajana, Mitradrohee, Kulaghaatee, lobhee and paapee? Who are Moodh, Agyaanee, Mandabuddhi, Buddhiheen, Chittabhrasht, Mohitachitt, Ghaatakarta, Kaayar, Chor, Deen and Adham? What is Chaturvarnya? What is Vedas and Vedic Culture? What is Oordhvamool and Aadhashaakhaa Ashwattha? What are Chhand and Parna? What is Triguna i.e. Sattva-Raja-Tama? What is Yukt-Ayukta, Kama-Krodha, Nivritti-Pravrtti, Aasakti–Anaasakti, Sat-Asat, Prana-Apaan and Swadharma-Pardharma? What are the Bhakti movement and its reason? ..... The answers to all such questions are found in this book in a very theoretical way.

 

The meaning of almost all the words of the Gita, whose exact meaning could not be known, has been given in the commentary of the book. The diversity and randomness that we see in the Gita also prove to be rhythmic and systematic in the said book. Which verse of the Gita was composed, perhaps the reason has been given for it, so also the reason for the words used in the verses, since no verse, no facts and no words are given in the Gita as such, but seem to have been given with an implicit purpose. The verses of the Gita are sentimental, but their expressions have been difficult to understand, their expressions have also been expressed. According to the book, the utterances of Gita were not given in any Kurukshetra for war, because more than war-motivation, non-violent and knowledge-intellect are strong things in Gita, which have nothing to do with war. According to the book, Bhagavad Gita is the dialogue of the revolution, which saved India and its countrymen from a great crisis. Therefore Bhagavad Gita is a historical document.

 

From the study of the said book, we will also start to understand the subjects of Vedas, Puranas, Upanishads, Smritis, Ramayana, Mahabharata and Buddhacharit etc., how they are related to each other, and what is their subject? Because the Gita is the original scripture of all these, so without understanding the Gita, their originality will not be understood. In the book, the chapters of Gita and their verses have been classified, so many statements of Gita have been shown to be confirmed by other sources as well. The writing work of the book generally appears neutral and impartial. The book is completely based on scientific and theoretical approaches. Therefore, there is no support in the book of supernaturalism, divinity, divinity, blindness, theism, reasonless-ness and devotionals, and neither is there any support for the facts directly or indirectly in their favour, but the natural phenomenon has been understood naturally. Because the Gita does not establish theism, devotionals and any religious beliefs, but through its expressed revolutions, it shows the welfare of the country and the countrymen, by understanding which we can know the history, religion-philosophy and historical characters of that time properly. 

 

The language of the book is simple and interesting to read and rhythmic. Along with those who know history and religion-philosophy, this book can prove to be informative for all the readers and can open many doors of new information related to history, religion-philosophy etc. It can increase the knowledge of Sanskrit, and also for those scholars who do research on Vedas, Puranas, Mahabharata etc. A lot more can be learned from this book along with the eschatology of the Gita. This book has more content than our expectations and curiosities.

About Author:

REVIEWS

Review On : -    09 Sep 2021 - by KP SINGH

  

Review :-   विद्वानों के द्वारा भगवद्गीता एक रहस्यमयी एवं बेहद गूढ़ रचना मानी जाती है, इसलिए उसके रहस्य को जान लेना किसी रोमांच से कम नही होगा। हिन्दी अनुवादसहित एवं ‘पूर्ण–विराम’ टीका के साथ ‘श्रीमद्भगवद्गीता : एक इतिहास’ नामक एक पुस्तक प्रकाशित हुर्ई है जिसमें गीता की लगभग समस्त गूढ़ता हल होती दिखाई दे रही है। प्रकाशित पुस्तक में ऐसी तमाम जानकारियों का भी समावेश है, जो हमारे लिए महत्वपूर्ण साबित हो सकती हैं। भगवद्गीता अपने श्लोकों, कथनों, भावों और शब्द–भण्डार को लेकर इतनी गूढ़ रही है कि उनके चलते उसे समझना सम्भवत: असम्भव-सा रहा है और वह विश्व के लिए एक अनसुलझी पहेली सी बनी रही। गीता का विषय ऐसी विविधता लिए हुए है जिसके कारण वह क्रमहीन सी लगती है, उसका मौलिक आधार अज्ञात सा रहा है जिससे उसकी वास्तविकता ज्ञात नही हो पायी, उसका शब्द–भण्डार ऐसा है जिसके बहुत से शब्दों का सम्भवत: सही अर्थ ज्ञात नही हो पाया है तो साथ ही उसके भाव भी हाथ नही लगे हैं। गीता को लेकर सबसे पहले यह समझना होगा कि गीता क्या है? उसका विषय व आधार क्या है? और वह कब तथा क्यों रची गई? प्रकाशित पुस्तक में इस सबका बुद्धिमत्तापूर्ण ढंग से विवेचन किया गया है। पुस्तक लगभग उन सभी बिन्दूओं को समेकित करती है जो किसी की भी जिज्ञासा के लिए अहम हो सकते हैं जैसे गीता का आद्य–प्रणेता कौन है? गीता के कितने संस्करण रचे गये और कब-कब? गीता के रचनाकार कौन हैं? सही रूप में बुद्ध और कृष्ण कौन हैं और उनका काल क्या है? कुरुक्षेत्र, और कुरुक्षेत्र का युद्ध क्या है? आत्मा, परमात्मा, परमेश्वर, ईश्वर, महेश्वर, भगवान् और प्रभु आदि कौन हैं? ब्रह्म, विभूति, योग, पुनर्जन्म, जन्ममृत्युजरादु:ख, कर्म, कर्मफल, यज्ञ, तप, भक्ति, ध्यान, सांख्य, संन्यास, त्याग, बुद्धि, ज्ञान, जन्म–बन्धन, मोक्ष, निर्वाण, मुक्ति, अमृत, शान्ति, भावना, नैष्कर्म, दिव्यदृष्टि, ओम, जगत्, लोक, सुरेन्द्रलोक और प्राणायाम क्या हैं? स्थितप्रज्ञ, योगी, संन्यासी, देव, देवता, दैव, सुर और आसुर कौन हैं? ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य, शूद्र, चाण्डाल, पापयोनि और अछुत कौन हैं? सम्राट अशोक कौन है? यदु और यादव कौन हैं? विराट्–पुरूष कौन और विराट्स्वरूप क्या है? स्त्रियों के दूषित होने का वर्ण–संकर दोष व भय क्या है? धार्तराष्ट्र, धृतराष्ट्र, पाण्डव, आततायी और भीष्म द्रोण आदि कौन हैं? धर्म और अधर्म क्या है? स्वजन, मित्रद्रोही, कुलघाती और कुल का नाश करनेवाले लोभी व पापी कौन हैं? मूढ, अज्ञानी, मन्दबुद्धि, बुद्धिहीन, चित्तभ्रष्ट, मोहितचित्त, घातकर्ता, कायर, चोर, दीन और अधम–नीच कौन हैं? चातुर्वर्ण्य क्या है? वेद और वैदिक संस्कृति क्या है? ऊर्ध्वमूल व अधशाखावाला अश्वत्थ क्या है? छन्द व पर्ण क्या हैं? त्रिगुण क्या है तथा सत्त्व रज व तम क्या है? युक्त–अयुक्त, काम–क्रोध, निवृत्ति–प्रवृत्ति, आसक्ति–अनासक्ति, सत्–असत्, प्राण–अपान और स्वधर्म–परधर्म क्या है? भक्ति आन्दोलन और उसका कारण क्या है?..... ऐसी तमाम जिज्ञासाओं के उत्तर हमें इस पुस्तक में बड़े ही सैद्धान्तिक तरीके से मिलते हुए दिखाई देते हैं। विशेष बात तो यह है कि गीता के बहुत से शब्दों का जो सही अर्थ नही जाना जा सका था लगभग उन सारे शब्दों का अर्थ इसकी टीका में कर दिया गया है। गीता में हमें जो विविधता और क्रमहीनता दिखाई देती है तो वह सब इस पुस्तक से लयबद्ध और क्रमबद्ध सिद्ध होते हैं। गीता का कौन सा श्लोक क्यों रचा गया उसका भी सम्भवत: कारण दिया है तो श्लोकों में प्रयुक्त शब्दों का कारण भी, चूँकि गीता में कोई श्लोक कोई बात और कोई शब्द ऐसे ही नही दिये गये बल्कि निहित उद्देश्य से दिये गये लगते हैं। गीता के जो श्लोक भावयुक्त हैं किन्तु उनके भावों को समझना मुश्किल रहा है उनके भाव भी व्यक्त किये गये हैं। नि:संकोच कहना पड़ेगा कि गीता के सच को जानने के लिए विश्व को वर्षों से इसलिए भी वंचित रहना पड़ा क्योंकि उसपर कभी वैज्ञानिक पद्धति से कार्य हुआ ही नही अन्यथा परिणाम कुछ और होता। पुस्तक के अनुसार गीता के कथन युद्ध हेतु किसी कुरुक्षेत्र में नही दिये गये क्योंकि युद्ध–प्रेरणा से अधिक तो गीता में अहिंसक और ज्ञान–बुद्धि प्रबल बातें हैं जिनका युद्ध से कोई सम्बन्ध नही बल्कि पुस्तक के अनुसार गीता उस क्रान्ति का संवादीय दस्तावेज है जिसने भारत देश और देशवासियों को एक महासंकट से बचाया, उसी क्रान्ति का संवाद है भगवद्गीता, जो स्वयं में एक ऐतिहासिक दस्तावेज है। इसलिए गीता के सच को जान लेना किसी गौरवशाली क्षण से कम नही हो सकता है। इस पुस्तक के अध्ययन से हमें वेद, पुराण, उपनिषद, स्मृतियाँ, रामायण, महाभारत और बुद्धचरित आदि ग्रन्थों के विषय भी समझ आने शुरु हो जाएँगे कि वह एक–दूसरे से किस प्रकार सम्बन्धित हैं और उनका विषय क्या है? पुस्तक में गीता के अध्यायों और उसके श्लोकों का बहुत अच्छा वर्गीकरण दिया है तो गीता के बहुत से कथनों की पुष्टि भी अन्य स्रोतों से किये जाते हुए दिखायी है। पुस्तक का लेखन कार्य सामान्यत: निरपेक्ष और निष्पक्ष दिखाई देता है जैसे कि गीता का जो सच है वही दर्शाया गया हो। यह पुस्तक पूर्णतया वैज्ञानिक एवं सैद्धान्तिक दृष्टिकोण पर आधारित है, इसलिए पुस्तक में अलौकिकता, दिव्यता, दैवीयता, अन्धता, ईश्वरवादिता, कारणहीनता तथा भक्तिवाद की बातों का और उनके समर्थन में प्रत्यक्ष–अप्रत्यक्ष कथनों का कोई नामो-निशान नही है, बल्कि जिस घटना का जो कार्य सम्भव हो सकता है उसका वैसा ही बोध कराया गया है। यद्यपि गीता के सम्बन्ध में जो मान्यता चली आ रही है उससे परे सोचने की हमने कभी कोशिश नही की, लेकिन उस मान्यता से बिलकुल परे ही गीता की सत्यता छिपी हुई लगती है, जो इस पुस्तक में दिखाई गई है। पुस्तक की भाषा सरल तथा पढ़ने में रुचिकर एवं लयबद्ध है। इतिहास और धर्म–दर्शन जाननेेवालों के साथ-साथ यह पुस्तक सभी पाठकों के लिए भी ज्ञानवर्धक साबित हो सकती है और इतिहास धर्म–दर्शन आदि से सम्बन्धित यह नई जानकारियों के बहुत से द्वार भी खोल सकती है। गीता के गूढ़ रहस्य के साथ इस पुस्तक से और भी बहुत कुछ जाना जा सकता है। इस पुस्तक में हमारी अपेक्षाओं और जिज्ञासाओं से कहीं अधिक विषय–वस्तु है। अध्ययन के लिए ऐसी दुर्लभ पुस्तकें सम्भवतः कभी–कभार ही प्राप्त होती हैं। संसार में भगवद्गीता एकमात्र ऐसा ग्रन्थ है जो विषम और अतिक्रमणकारी परिस्थितियों तथा उन्मादी-धर्मान्धा से बुद्धि-ज्ञान द्वारा सङ्घर्ष करना सिखाती है। क्योंकि पञ्चभारत के सिन्ध पर हुए मो. बिन-कासिम के आक्रमण और उसके बाद होनेवाले धर्मान्तरण एवं कुल-जातिधर्म के क्षय से लोगों को बचाने की ज्ञान-प्रेरित क्रान्ति को तो साथ ही उस समय के शासकों की यहाँ घोर अमानवीय व्यवस्था के प्रति सुधार क्रान्ति को भी बताती है..... इसके अतिरिक्त भी बहुत कुछ जो आश्चर्यचकित करे। यही भगवद्गीता है।

Rating :-

SIMILAR PRODUCTS